पाणिनि की अष्टाध्यायी में संगीत || Music in Panini's Ashtadhyayi || पाणिनि की जीवनी ||

जनवरी 22, 2022 Sangeet Waale 0 Comments

 

पाणिनि की अष्टाध्यायी में संगीत 

हरिवंश महाभारत का खिल - ग्रन्थ माना जाता है। इसलिए महाभारत के साथ ही साथ हरिशवंश में जो संगीत की सामग्री मिलती है उसका भी वर्णन दे दिया गया। हरिवंश एक पुराण माना जाता है। इसलिए हरिवंश के साथ ही अन्य पुराणों में जो संगीत की चर्चा है उस पर भी विचार किया गया है। यह सब सुविधा की दृष्टि से किया गया है। 

कला की दृष्टि से देखा जाए तो पाणिनि का काल लिखित पुराणों के काल से पूर्व का है। पाणिनीकृत अष्टाध्यायी व्याकरण का सबसे विख्यात ग्रन्थ है। यद्यपि पाणिनि का विषय व्याकरण था तथापि भूगोल , वाणिज्य , शासन , मुद्रा , संगीत - सम्बन्धी जो शब्द प्रयोग में थे उनकी सिध्दि के समय गौण रूप से इनसे सम्बन्ध विषयो की झलक भी पाणिनि के व्याकरण में मिल जाता है। 

पाणिनि के काल के सम्बन्ध में विद्वानों में थोड़ा सा मतभेद है। डॉ ० वासुदेव - शरण अग्रवाल ने अपने ' पाणिनिकालीन भारतवर्ष ' में प्रबल प्रमाणों से यह सिद्ध कर दिया है कि पाणिनि का काल ई ० पू ० लगभग पाँचवीं शती था। 

अब हमें यह देखना है कि पाणिनि की अष्टाध्याय में संगीत - विषयक क्या उल्लेख मिलता है ? डॉ ० वासुदेवशरण अग्रवाल ने अपनी उक्त पुस्तक में बतलाया है कि अष्टाध्याय में गीति ( 3 . 3 . 95 ), गेय ( 3 . 4 . 68 ),गायक (3 . 1 . 146 ), गायन अर्थात गाने वाला ( 3 . 1 . 147 ), नर्तक (3 . 1 . 145 ) और परिवादक ( 3 . 2 . 146 ) का उल्लेख आया है। संगीत एक शिल्प माना जाता था। प्राचीन समय में ' कला ' के स्थान पर शिल्प का ही अधिक प्रयोग था। अष्टध्याय के नट - सूत्रों से पता चलता है कि नाट्य की उस समय तक पर्याप्त उन्नति हो चुकी थी। पाणिनि ने कई नटसूत्रकार गिनाये हैं , किन्तु उनमे भरत का नाम नहीं लिया है जिससे प्रतीत होता है कि उस समय तक भरत के नाट्यशास्त्र की रचना नहीं हुई थी। 

अष्टध्यायी (2 . 4 . 2 ) के सूत्र में ' तुर्याडग ' का उल्लेख मिलता है। ' तूर्य ' वाद्य की एक बहुत प्राचीन संज्ञा है। ( तुर्यते ताड्यते इति ). जो ताड़ित किया जाय अर्थात जिसका हाथ अथवा किसी अन्य वस्तु से हनन किया जाए। वह सब ' तूर्य ' ( वाद्य ) है। तूर्य के अङ्ग को तुर्याङ्ग कहते थे। ये एक साथ बजते थे, जैसे 'मार्दङ्गक - पाणिनीकाम ' मृदङ्ग के बजाने वाले को मार्दङ्गक और पणव को बजाने वाले को पाणविका कहते थे और दोनों को साथ बजाने वाले जुट को ' मार्दङ्गकपाणविकम ' कहते थे। 

एक दूसरा उदाहरण जो काशिका ने दिया है वह है -' वीणावादक - परिवादकम ' का। मेदिनी कोश ने ' परिवाद ' का अर्थ दिया है ' वीणावादनवस्तु ' अर्थात वह चीज जिसमे वीणा बजाई जाती है। यह कर्मिक अथवा नखी जैसी कोई चीज रही होगी। ' परिवादक ' उसको कहते थे जो वीणा को परिवाद से बजाता था। यदि पाणिनि के समय में ' वीणावादक - परिवादकम ' का प्रयोग प्रचलित था तो उस समय वीणावाद और परिवाद दो पृथक वादकों का जुट होता रहा होगा इसमें ऐसा प्रतीत होता है कि पाणिनि के समय में ' वीणा ' दो  प्रकार से बजाई जाती रही होगी - एक साधारण रूप से ,नख मात्र से , बिना किसी परिवाद के सहारे और दूसरे - परिवाद के द्वारा। पतञ्जलि ने अपने भाष्य में परिवादक को परिवाद द्वारा वीणा बजाने वाला कहा है। 
पाणिनि की  जीवनी 
ऋषि पाणिनि
पाणिनी (चौथी शताब्दी ईसा पूर्व या “छठी से पांचवीं शताब्दी ईसा पूर्व”) प्राचीन भारत में एक प्राचीन संस्कृत व्याकरण और श्रद्धेय विद्वान थे।
भाषा विज्ञान के जनक माने जाने वाले पाणिनी महाजनपद काल में उत्तर पश्चिम भारतीय उपमहाद्वीप में रहते थे।
कहा जाता है कि उनका जन्म सिंधु और काबुल नदियों, पाकिस्तान के एक छोटे से शहर, प्राचीन गांधार के शालतुला में हुआ था।
ऋषि पाणिनि
पाणिनि को उनके पाठ अष्टाध्यायी के लिए जाना जाता है, जो संस्कृत व्याकरण पर सूत्र शैली का ग्रंथ है, 3,959 “छंद” या भाषाविज्ञान वाक्यविन्यास और शब्दार्थ “आठ अध्याय” पर नियम जो वेदांग की व्याकारायण शाखा का संस्थापक पाठ है।
भाषा की उनकी औपचारिकता भरत मुनि द्वारा नृत्य और संगीत की औपचारिकता में प्रभावशाली रही है। उनके विचारों ने बौद्ध धर्म जैसे अन्य भारतीय धर्मों के विद्वानों की टिप्पणियों को प्रभावित और आकर्षित किया।
अष्टाध्यायी
अष्टाध्यायी पाणिनी के व्याकरण का केंद्रीय भाग है, और अब तक का सबसे जटिल है।
पाठ इनपुट के रूप में शाब्दिक सूचियों से सामग्री लेता है और अच्छी तरह से निर्मित शब्दों की पीढ़ी के लिए उन पर लागू होने वाले एल्गोरिदम का वर्णन करता है।
यह अत्यधिक व्यवस्थित और तकनीकी है। इसके दृष्टिकोण में निहित स्वनिम शब्द का भाग और रूट की अवधारणाएं हैं।
अष्टाध्यायी
अष्टाध्यायी संस्कृत व्याकरण का पहला वर्णन नहीं था, लेकिन यह जल्द से जल्द पूरा हुआ है। वैद्य, वेदांग, वेदांग की नींव बन गया।
पाणिनी ने एक तकनीकी मेटा भाषा का उपयोग किया जिसमें एक वाक्यविन्यास, आकारिकी और शब्दकोश शामिल हैं।
अष्टाध्यायी के आठ अध्यायों में 3,959 सूत्र या “कामोद्दीपक सूत्र” हैं, जो प्रत्येक चार खंडों या पादों (पादह) में विभाजित हैं। इस पाठ ने एक प्रसिद्ध और सबसे प्राचीन भास्य (भाष्य) को आकर्षित किया जिसे महाभाष्य कहा जाता है।
शिव सूत्र
शिव सूत्र या माहीवारा कृष्ण चौदह श्लोक हैं जो संस्कृत के स्वरों को व्यवस्थित करते हैं जैसा कि पाणिनी के अष्टाध्यायी में वर्णित है, जो संस्कृत व्याकरण का संस्थापक ग्रंथ है।
परंपरा के भीतर उन्हें अक्षरास्मनाय के रूप में जाना जाता है, “स्वरों का सस्वर पाठ,” लेकिन उन्हें लोकप्रिय रूप से शिव सूत्र के रूप में जाना जाता है क्योंकि उनके बारे में कहा जाता है कि वे शिव से पाणिनि के लिए प्रकट हुए थे।
महाभाष्य
अष्टाध्यायी के बाद, महाभाष्य संस्कृत व्याकरण पर अगला आधिकारिक कार्य है। पतंजलि के साथ संस्कृत व्याकरण अपने चरम पर पहुंच गया और भाषाई विज्ञान को इसका निश्चित स्वरूप मिल गया।
ऋषि पाणिनि के पहले और बाद में कई वैयाकरण थे, जो न केवल भाषाविद् थे, बल्कि व्याकरणिक भी थे।
ऋषि पाणिनि स्वयं उनमें से लगभग 16 का उल्लेख करते हैं। पाणिनि परंपरा के 16 स्कूलों को संदर्भित करता है जो वाल्मीकि द्वारा रामायण में वर्णित 9 व्याकरणिक परंपराओं से अलग है।
नियम
पहले दो सूत्र इस प्रकार हैं:
वृद्धिरादैच
अद्यनगुनः
दो सूक्तों में एक सूक्तियों की सूची होती है, उसके बाद एक तकनीकी शब्द आता है; उपरोक्त दो सूक्तों की अंतिम व्याख्या इस प्रकार है:
(ए, एआई, एयू ) को विद्धी कहा जाता है।
(ए, ई, ओ ) को गुणा कहा जाता है।

0 comments: